पंचांग

पंचांग ही तपशीलवार लिहिलेली हिंदू पद्धतीची दिनदर्शिका असून तिच्यात वैदिक ग्रंथांमध्ये सांगितल्याप्रमाणे प्रत्येक दिवसाची पाच अंगे वर्णन केलेली असतात. त्या माहितीच्या आधारे ज्योतिर्विदांना खगोलीय घटनांचे पूर्वानुमान काढता येते. त्याचप्रमाणे विवाह, शिक्षण, व्यावसायिक कारकीर्द, प्रवास इत्यादी गोष्टींसाठी अनुकूल व प्रतिकूल कालनिर्णय करता येतो. आठवड्यातील दिवस (वार), तिथी किंवा चांद्रदिवस, नक्षत्र किंवा ताऱ्यांचा समूह, योग आणि कारण ही पाच अंगे मिळून पंचांग तयार होते. तुमच्या भौगोलिक क्षेत्राला अनुसरून पंचांग जाणून घ्यायचे असल्यास खाली दिलेल्या चौकोनांमध्ये तुमचा देश आणि शहर ही माहिती भरा.

पंचांग

18, March 2019
  • Mumbai, India
  • सूर्योदय : 06:45
  • सूर्यास् : 18:49
  • सूर्यास् : 18:49
  • तिथी : शुक्ल पक्ष द्वादशि
  • नक्षत् : अश्लेशा
  • रविवार
  • सोमवार
  • मंगळवार
  • बुधवार
  • गुरुवार
  • शुक्रवार
  • शनिवार
  • रविवार
    24
    क्रुष्ण पक्ष पंचमि
    नक्षत् : स्वाति
    योग : व्रुद्धि
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 07:01
    सूर्यास्त : 18:42
  • सोमवार
    25
    क्रुष्ण पक्ष सप्तमि
    नक्षत् : विशाखा
    योग : ध्रुव​
    करण : विष्टी
    सूर्योदय : 07:01
    सूर्यास्त : 18:42
  • मंगळवार
    26
    क्रुष्ण पक्ष अष्टमि
    नक्षत् : अनुराधा
    योग : व्याघात
    करण : बालव
    सूर्योदय : 07:00
    सूर्यास्त : 18:43
  • बुधवार
    27
    क्रुष्ण पक्ष नवमि
    नक्षत् : ज्येष्ठ
    योग : हर्षण
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:59
    सूर्यास्त : 18:43
  • गुरुवार
    28
    क्रुष्ण पक्ष नवमि
    नक्षत् : मुळ
    योग : वज्र​
    करण : गारा
    सूर्योदय : 06:59
    सूर्यास्त : 18:43
  • शुक्रवार
    01
    क्रुष्ण पक्ष दशमि
    नक्षत् : पुर्वाषढा
    योग : सिद्धि
    करण : विष्टी
    सूर्योदय : 06:58
    सूर्यास्त : 18:44
  • शनिवार
    02
    क्रुष्ण पक्ष एकादशि
    नक्षत् : पुर्वाषढा
    योग : व्यतिपात​
    करण : बालव
    सूर्योदय : 06:57
    सूर्यास्त : 18:44
  • रविवार
    03
    क्रुष्ण पक्ष द्वादशि
    नक्षत् : उत्तराषढा
    योग : वरिय​
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:57
    सूर्यास्त : 18:44
  • सोमवार
    04
    क्रुष्ण पक्ष त्रयोदशि
    नक्षत् : श्रावण
    योग : पारिध
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:56
    सूर्यास्त : 18:45
  • मंगळवार
    05
    क्रुष्ण पक्ष चतुर्दशि
    नक्षत् : धनिष्ठ
    योग : शिव​
    करण : विष्टी
    सूर्योदय : 06:55
    सूर्यास्त : 18:45
  • बुधवार
    06
    अमावस्या
    नक्षत् : सत्भिष
    योग : सिद्धि
    करण : चतुस्पद
    सूर्योदय : 06:54
    सूर्यास्त : 18:45
  • गुरुवार
    07
    शुक्ल पक्ष प्रतिपदा
    नक्षत् : पुर्वा भाद्रपद​
    योग : साध्य​
    करण : किश्तुघ्न​
    सूर्योदय : 06:54
    सूर्यास्त : 18:46
  • शुक्रवार
    08
    शुक्ल पक्ष द्वितिया
    नक्षत् : उत्तरा भाद्रपद​
    योग : शुभ
    करण : बालव
    सूर्योदय : 06:53
    सूर्यास्त : 18:46
  • शनिवार
    09
    शुक्ल पक्ष त्रुतिया
    नक्षत् : रेवती
    योग : शुक्ल​
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:52
    सूर्यास्त : 18:46
  • रविवार
    10
    शुक्ल पक्ष चतुर्थि
    नक्षत् : अश्विनि
    योग : ब्रह्म​
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:51
    सूर्यास्त : 18:47
  • सोमवार
    11
    शुक्ल पक्ष पंचमि
    नक्षत् : भरणी
    योग : इन्द्र​
    करण : बाव​
    सूर्योदय : 06:50
    सूर्यास्त : 18:47
  • मंगळवार
    12
    शुक्ल पक्ष शष्टि
    नक्षत् : कृतिका
    योग : वैध्रुति
    करण : कौलव
    सूर्योदय : 06:50
    सूर्यास्त : 18:47
  • बुधवार
    13
    शुक्ल पक्ष सप्तमि
    नक्षत् : रोहिणी
    योग : विश्कुम्भ​
    करण : गारा
    सूर्योदय : 06:49
    सूर्यास्त : 18:47
  • गुरुवार
    14
    शुक्ल पक्ष अष्टमि
    नक्षत् : मृगशिर्ष
    योग : प्रिति
    करण : विष्टी
    सूर्योदय : 06:48
    सूर्यास्त : 18:48
  • शुक्रवार
    15
    शुक्ल पक्ष नवमि
    नक्षत् : आर्द्रा
    योग : आयुष्यमान​
    करण : बालव
    सूर्योदय : 06:47
    सूर्यास्त : 18:48
  • शनिवार
    16
    शुक्ल पक्ष दशमि
    नक्षत् : पुनर्वसु
    योग : सौभाग्य
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:46
    सूर्यास्त : 18:48
  • रविवार
    17
    शुक्ल पक्ष एकादशि
    नक्षत् : पुश्य​
    योग : अतिगंड
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:45
    सूर्यास्त : 18:48
  • सोमवार
    18
    शुक्ल पक्ष द्वादशि
    नक्षत् : अश्लेशा
    योग : सुकर्म​
    करण : बाव​
    सूर्योदय : 06:45
    सूर्यास्त : 18:49
  • मंगळवार
    19
    शुक्ल पक्ष त्रयोदशि
    नक्षत् : माघ
    योग : ध्रुति
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:44
    सूर्यास्त : 18:49
  • बुधवार
    20
    शुक्ल पक्ष चतुर्दशि
    नक्षत् : पुर्व फाल्गुनी
    योग : शुल​
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:43
    सूर्यास्त : 18:49
  • गुरुवार
    21
    पौर्णिमा
    नक्षत् : उत्तर फाल्गुनी
    योग : गंड
    करण : बाव​
    सूर्योदय : 06:42
    सूर्यास्त : 18:49
  • शुक्रवार
    22
    क्रुष्ण पक्ष द्वितिया
    नक्षत् : हस्त​
    योग : ध्रुव​
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:41
    सूर्यास्त : 18:50
  • शनिवार
    23
    क्रुष्ण पक्ष त्रुतिया
    नक्षत् : चित्र​
    योग : व्याघात
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:40
    सूर्यास्त : 18:50
  • रविवार
    24
    क्रुष्ण पक्ष चतुर्थि
    नक्षत् : स्वाति
    योग : हर्षण
    करण : बाव​
    सूर्योदय : 06:40
    सूर्यास्त : 18:50
  • सोमवार
    25
    क्रुष्ण पक्ष पंचमि
    नक्षत् : विशाखा
    योग : वज्र​
    करण : कौलव
    सूर्योदय : 06:39
    सूर्यास्त : 18:50
  • मंगळवार
    26
    क्रुष्ण पक्ष शष्टि
    नक्षत् : अनुराधा
    योग : सिद्धि
    करण : गारा
    सूर्योदय : 06:38
    सूर्यास्त : 18:51
  • बुधवार
    27
    क्रुष्ण पक्ष सप्तमि
    नक्षत् : ज्येष्ठ
    योग : व्यतिपात​
    करण : विष्टी
    सूर्योदय : 06:37
    सूर्यास्त : 18:51
  • गुरुवार
    28
    क्रुष्ण पक्ष अष्टमि
    नक्षत् : मुळ
    योग : वरिय​
    करण : बालव
    सूर्योदय : 06:36
    सूर्यास्त : 18:51
  • शुक्रवार
    29
    क्रुष्ण पक्ष नवमि
    नक्षत् : पुर्वाषढा
    योग : पारिध
    करण : तैतिल
    सूर्योदय : 06:35
    सूर्यास्त : 18:51
  • शनिवार
    30
    क्रुष्ण पक्ष दशमि
    नक्षत् : उत्तराषढा
    योग : शिव​
    करण : वाणिज​
    सूर्योदय : 06:35
    सूर्यास्त : 18:52

पंचांग - त्याचे महत्व आणि कार्यपद्धती

पंचांगाबद्दल महत्वाची एक गोष्ट अशी आहे की, आपल्या परिसराशी समरस होऊन कसे जगावे ह्याची माहिती पंचांगापासून आपल्याला मिळते. हिंदू पद्धतीच्या दिनदर्शिकेच्या मदतीने आपण आपल्या आयुष्यातील महत्वाच्या घटनांचे नियोजन करून तशा प्रकारे वातावरणाशी मिळूनमिसळून जगू शकतो. सद्यस्थितीत आकाशात असलेली ग्रहस्थिती आणि तुमच्या जन्मकुंडलीतील ग्रहस्थिती यांचा योग्य प्रकारे मेळ घालून तुमच्या दृष्टीने पवित्र आणि महत्वाचे दिवस कोणते हे ठरवता येते. पंचांगकर्त्यांना खगोलीय घटनांचे चांगले ज्ञान असावे लागते, तसेच पंचांग तयार करताना बरीच गुंतागुंतीची गणिते करावी लागतात. परंतु प्रत्यक्षात मात्र वैदिक काळातील मुनी आणि इतर विद्वानांनी तत्संबंधी तयार केलेली सूत्रे वापरूनच पंचांग केले जाते.

मेष कुंडली

मेष दैनिक राशि फल18-03-2019

आपली आत्मीयता अधिक संवेदनशील बनेल. त्...अधिक वाचा

मेष साप्ताहिक राशिफल 17-03-2019 - 23-03-2019

ह्या आठवडयाच्या सुरवातीस आपला बहुतां...अधिक वाचा

मेष मासिक राशिफलMar 2019

श्रीगणेशजींच्या सांगण्यानुसार ह्या ...अधिक वाचा

मेष वार्षिक राशिफल2019

आर्थिक चणचण भासणार नाही. मेष राशीच्या ...अधिक वाचा